उत्तर प्रदेशवाराणसी

लॉकडाउन के चलते छूटे बच्चों व गर्भवती महिलाओं का होगा टीकाकरण : जिलाधिकारी

वाराणसी। नवम्बर से विशेष टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। वाराणसी के जिलाधिकारी एवं जिला स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष कौशल राज शर्मा ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते किये गए लॉकडाउन के दौरान टीकाकरण से वंचित बच्चों और गर्भवती के लिए आगामी नवंबर 2020 से लेकर जनवरी 2021 तक विशेष त्रैमासिक अभियान चलाने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य एवं आईसीडीएस विभाग को निर्देशित किया कि एएनएम, आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा घर-घर जाकर सर्वे कर टीकाकरण से छूटे हुये बच्चों एवं गर्भवती की ड्यू लिस्ट तैयार कर समय से तैयार कर ली जाए। वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए। कोल्ड चैन को सुव्यवस्थित कर लिया जाए। विशेष अभियान में कार्यरत सभी व्यक्तियों की ड्यूटी सुनिश्चित तैयार कर ली जाए। अन्य संबन्धित विभागों के साथ बैठक कर समन्वय बना लिया जाए । अभियान को शत-प्रतिशत सफल बनाया जाए । अभियान के लिए ग्रामीण एवं शहरी स्तर पर मॉनिटरिंग पर ज़ोर दिया जाए । जिलाधिकारी ने जनपद वासियों से अपील किया है कि गर्भवती महिलाओं और बच्चों जिनका लॉकडाउन के कारण टीकाकरण नहीं हुआ है या आंशिक रूप से हुआ है, वह अपने क्षेत्र की एएनएम, आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से संपर्क कर निर्धारित तिथियों व निर्धारित दिवसों पर टीकाकरण जरूर कराएं।

Vaccination of children and pregnant women due to lockdown will be vaccinated: District Magistrate in varanasi

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीबी सिंह ने बताया कि अपर मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश शासन से प्राप्त निर्देशानुसार लॉकडाउन में छूटे हुए बच्चों के टीकाकरण के लिए नवंबर 2020 से लेकर जनवरी 2021 तक विशेष अभियान चलाया जाएगा। सप्ताह में तीन दिन सत्र आयोजित कर टीकाकरण किया जाएगा। विशेष अभियान के अंतर्गत पूर्व निर्धारित सप्ताह में बुधवार और शनिवार के साथ ही साथ एक अन्य दिवस सोमवार को भी टीकाकरण किया जाएगा । उन्होने बताया कि अभियान के लिए आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा लॉकडाउन में छूटे हुये बच्चों एवं गर्भवती के टीकाकरण की ड्यू लिस्ट तैयारी की जा रही है । इसके साथ ही लॉकडाउन के दौरान जनपद में आए प्रवासी मजदूरों और नए परिवार के बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को भी इस अभियान में विशेष रूप से शामिल किया जाएगा। इस कार्य में सहयोगी संस्थाओं (डबल्यूएचओ, यूनिसेफ और यूएनडीपी आदि) से सहयोग प्रदान किया जाएगा । अभियान के सफल संचालन के लिए सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया जा चुका है ।

Vaccination of children and pregnant women due to lockdown will be vaccinated: District Magistrate in varanasi

जच्चा-बच्चा की सुरक्षा के लिए टीकाकरण है जरूरी-
बच्चों को समय पर टीका लगना बेहद जरूरी है। यदि टीके देर से लगाते हैं तो जानलेवा बीमारियों का खतरा बना रहता है। जन्म के समय लगने वाले बीसीजी, पोलियो और हेपेटाइटिस-बी के टीके प्रसव के तुरंत बाद अस्पताल में ही लगाए जाते हैं। बच्चों को 6 सप्ताह पर पोलियो-1, रोटा वाइरस-1, आईपीवी-1,पेंटावैलेंट-1 तथा पीसीवी-1, 10 सप्ताह पर पोलियो-2, रोटा वाइरस-2 तथा पेंटावैलेंट-2, 14 सप्ताह पर पोलियो-3, रोटा वाइरस-3, आईपीवी-3,पेंटावैलेंट-3 तथा पीसीवी-2, 9 से 12 महीने पर मीजेल्स-रूबेला-1,पीसीवी बूस्टर डोज़ तथा जापानी इन्सेफेलाइटिस-1, 16 से 24 महीने पर पोलियो बूस्टर डोज़, मीजेल्स-रूबेला-2, डीपीटी बूस्टर -1 तथा जापानी इन्सेफेलाइटिस-2, 5 से 6 वर्षो पर डीपीटी बूस्टर-2, 10 वर्षो पर टिटनेस-डिफ़्थीरिया, 16 वर्षो पर टिटनेस-डिफ़्थीरिया लगाया जाता है । गर्भवती महिलाओं को पहले महीने में टिटनेस-डिफ़्थीरिया-1, दूसरे महीने में टिटनेस-डिफ़्थीरिया-2 तथा 3 वर्षो के अन्दर दूसरी बार गर्भवती होने पर टिटनेस-डिफ़्थीरिया बूस्टर डोज़ दी जाती है।

Show More

Related Articles

Back to top button