उत्तर प्रदेशफतेहपुर

साग तोड़ने जंगल गई दो सगी बहनों की मौत, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

Two real sisters died after breaking the forest in fatehpur

फतेहपुर। असोथर थाना क्षेत्र के छिछनी गांव में चना का साग तोड़ने जंगल गई दो सगी नाबालिग दलित बहनों की कथित रूप से हत्या कर शव तालाब में फेंकने की घटना से पूरे इलाके में सनसनी फ़ैल गई। पुलिस प्रशासन के अधिकारी देर रात मौके पर पहुंचे और घटना का बारीकी से जायजा लिया। फॉरेन्सिक टीम ने भी परीक्षण किया है। गांव के दिलीप निर्मल का परिवार गांव में रहता है दिलीप परदेश में कमाता है सोमवार की दोपहर दिलीप निर्मल की दो बेटियां किरन 12 वर्ष और शुभी आठ वर्ष खेतों में चने का साग तोड़ने के लिए गई थी शाम तक जब वापस नहीं आईं तो परिजनों ने खोज बीन की लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। देर शाम ग्रामीणों ने दोनों के शव गांव से कुछ दूरी में तालाब में देखा तो पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। तालाब में सिंघाड़ा बोये गए हैं। दोनों सगी बहनों में एक की आंख में चोट के निशान भी बताए जा रहे हैं।

Two real sisters died after breaking the forest in fatehpur

परिजनों की माने तो उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है लेकिन परिजन दुष्कर्म के बाद हत्या किए जाने की आशंका जता रहे हैं। परिजनों की माने तो पुलिस ने मौके पर पंचायत नामा भी नहीं भरा और लाशों को उठा ले गई पुलिस की इस कार्यशैली से ग्रामीणों और परिजनों में आक्रोश भी है परिजनों का आरोप है कि पूरे मामले में पुलिस लीपापोती करने में जुटी है। जब कि पुलिस की माने तो दो सगी बहनों की मौत तालाब में डूबने की वजह से हुई है दोनों के शव को कब्जे लिया गया है। पीएम रिपोर्ट के बाद मौत की वजह पूरी तरह से स्पस्ट हो पाएगी।

Show More

Related Articles

Back to top button