fbpx
Monday, July 6
BREAKING NEWS: दिल्ली: अमेरिकी फाइटर जेट ने दक्षिण चीन सागर को घेरा, चीनी सेना के उड़े होश BREAKING NEWS: कानपुर: कुख्यात अपराधी विकास दुबे की मदद करने वाले यूपी के चार और पुलिसकर्मी सस्पेंड BREAKING NEWS: कानपुर: विकास दुबे पर पहले 50 हजार फिर एक लाख, अब पूरे ढाई लाख का इनाम BREAKING NEWS: भदोही: बैंक क्लर्क ने तकिए से मुंह दबाकर पत्नी को उतारा मौत के घाट BREAKING NEWS: वाराणसी: युवक को चाकू गोदकर फरार हुआ हत्यारा, चाचा को भी मारने का किया प्रयास  

Tik-Tok, UC Browser चीनी ऐप पर लगाया प्रतिबंध, देखें पूरी लिस्ट

ads-image
china App banned

नई दिल्ली भारत-चीन बॉर्डर टेंशन के बीच भारत सरकार ने एक बड़ा फैसला लेकर चीन को झटका दिया है। भारत सरकार ने लोकप्रिय चीनी ऐप टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया है। जानकारी के अनुसार, इन चीनी ऐप से देश की निजता पर खतरा बताया जा रहा है।

china app list banned

सरकार ने शेयर इट, एमआई वीडियो कॉल, वीगो विडियो, ब्यूट्री प्लस, लाइकी, वी मेट, यूसी न्यूज जैसे ऐप पर भी पाबंदी लगा दी है, जोकि लोगों में काफी लोकप्रिय थे। दरअसल भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने चाइनीज ऐप की एक लिस्ट तैयार की थी और सरकार से अपील की थी कि इन ऐप पर प्रतिबंध लगाया जाए और लोगों से कहा जाए कि वो तुरंत इन ऐप्स को अपने फोन से हटा दें। सुरक्षा एजेंसियों की दलील है कि इन ऐप के जरिए भारतीयों का डेटा हैक किया जा सकता है। जिसके बाद सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए इन सभी 59 चीनी ऐप को बैन कर दिया है।

ईटी मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि ये ऐप “भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, भारत की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के प्रति पक्षपातपूर्ण थे। मंत्रालय ने इन ऐप पर प्रतिबंध लगाने के लिए आईटी एक्ट की धारा 69ए का प्रयोग किया है। बता दें कि 2015 से 2019 के बीच चीन की अलीबाबा, टेंन्सेंट, टीआर कैपिटल, हिलहाउस कैपिटल जैसी कंपनियों ने भारत के स्टार्टअप में 5.5 बिलियन डॉलर का निवेश किया है। ऐसे में सरकार के इस फैसले के बाद यह देखना अहम होगा कि वो तमाम भारतीय कंपनियां जिनमे चीन की कंपनियों ने निवेश किया है, उनका भारत सरकार के इस फैसले के बाद क्या रुख होता है।

Leave a reply