अमेठीउत्तर प्रदेशदेश

तीन साल से पंचायत भवन में रहने को मजबूर है यह परिवार, आइये जानें क्यों…

अमेठी। प्रधानमंत्री मोदी पीएम आवास की स्कीम लाकर गरीबों को सिर छुपाने के लिए छत दे रहे हैं। केंद्र और राज्य सरकारें इस स्कीम के बड़े-बड़े आकड़े और दावे पेश कर रही हैं, लेकिन खुद पीएम मोदी की मंत्री के संसदीय क्षेत्र अमेठी से पीएम आवास की असल तस्वीर सामनें आई है। जहां एक महिला पिछले कुछ सालों से छत नही होने की वजह से पंचायत भवन में परिवार के संग रहने को मजबूर है।

This family is forced to stay in the Panchayat Bhavan for three years, let's know why ... in amethi

दरसल ये पूरा मामला अमेठी संसदीय क्षेत्र के मुसाफिरखाना तहसील अंतर्गत चंदापुर गांव का है। यहां गांव में बने पंचायत घर में गीता नाम की महिला अपने परिवार के साथ रह रही। पूछने पर गीता ने बताया की वो यहां चार-पांच सालों से रह रही है। गीता का पति मजदूरी करता है और वो एक बच्चे के साथ पंचायत भवन में जैसे-तैसे गुजर बसर कर रही है। गीता ने ये भी बताया कि प्रधानमंत्री आवास के लिए प्रधान के पास गए लेकिन आवास नही मिला।

गांव की बुजुर्ग महिला चंद्रकला ने बताया कि करीब तीन साल से यहां रह रही है। प्रधान कालोनी वगैरह लिख दे तो मिल जाए। मजदूरी करके खा कमा रहे हैं। बुजुर्ग महिला ने कहा की हम लोग यही चाहते हैं की कब से बेचारी भटक रही है इसे कालोनी मिल जाए। वहीं इस मामले में जिलाधिकारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि कुछ मीडिया के लोगों के माध्यम से पता चला है जांच कर महिला को आवास दिलवाया जाएगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button