उत्तर प्रदेशचंदौली

चन्दौली से CRPF को न हटाने के लिए अमित शाह को सपा नेताओं ने लिखा पत्र

चंदौली। जिले की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर सपा के प्रवक्ता मनोज सिंह यादव काका तथा जिले के सपा पूर्व सांसद रामकिशुन यादव ने गृहमंत्री को पत्र लिखकर सीआरपीएफ की तैनात बटालियन को नक्सल प्रभावित क्षेत्र में तैनात रखने का आग्रह किया। बताते चलें कि नक्सली गतिविधियों को देखते हुए एक्सो 148 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सोनभद्र तथा चन्दौली तैनात है। जिसे नक्सल प्रभावित क्षेत्र से हटाने के फैसले को देखते हुए जनपद के सपा नेता व सपा प्रवक्ता के मनोज सिंह यादव काका ने गृहमंत्री को पत्र में 2001 में हुई नक्सली गतिविधि पर एक तरफ ध्यान आकृष्ट करते हुए सीआरपीएफ की बटालियन को ज्यों का त्यों तैनात रखने का आग्रह किया है।

 SP leaders write letter to Amit Shah for not removing CRPF from Chandauli

सभी को ज्ञात हो कि नक्सली गतिविधियों को देखते हुए जनपद में 148 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल सोनभद्र व चंदौली जनपद में कंपनियां तैनात हैं जो बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ तथा मध्य प्रदेश की सीमाओं से लगा हुआ है। इसमें बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ तीन नक्सल प्रभावित राज्य है क्योंकि भौगोलिक परिस्थिति जंगल, पहाड़ी एवं नदियां आदि से सीमा में लगे होने के कारण राज्य झारखंड बिहार माध्यम से समांतर और आदिवासी प्रकृति इन राज्यों को प्रभावित करते हैं। ऐसे में CRPF के यहां से जाने की स्थिति में नक्सली ऐसी परिस्थितियों का लाभ उठाकर अपना गढ़ बना सकते हैं। इसे देखते हुए सपा के प्रवक्ता मनोज सिंह यादव काका ने गृहमंत्री भारत सरकार से आग्रह करते हुए उनका ध्यान पूर्व में विगत वर्षों में 21 जनवरी 2001 की घटना को आकृष्ट किया है जिसमें 50 नक्सली PSC के पोस्ट पर हमलाकर 14 SRL राइफल लगभग 1500 गोलियां लूट ले गए थे। जिसके दौरान 14 जवानों की शहीद भी हो गए थे। इस घटना व भौगोलिक दृष्टि को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार से क्षेत्रवासियों की सुरक्षा के लिए चंदौली व सोनभद्र से तैनात सीआरपीएफ ना हटाने का हटाने का निवेदन किया ताकि जनपदों में अमन शांति कायम रहे।

इस संबंध में मंत्री अमित शाह से जनपद के पूर्व सपा सांसद राम किशन यादव ने भी पत्र के ध्यान से भौगोलिक दृष्टि तथा आने वाली समस्याओं को हुई समस्याओं को दृष्टि गत रखते हुए सीआरपीएफ की बटालियन न हटाने का आग्रह किया क्योंकि अभी हाल ही में नक्सल क्षेत्र में एक कंप्लीट के माध्यम से लाल सलाम लिखकर सभी जंगलवासियों को वन विभाग के खिलाफ मोर्चा खोलने का आग्रह भी किया गया है इस को ध्यान में रखते हुए क्षेत्र के नेताओं द्वारा विषम परिस्थिति ना उत्पन्न हो यह पत्र लिखकर आग्रह किया गया है कि सीआरपीएफ की बटालियन नक्सल क्षेत्र से ना हटाई जाए।

Show More

Related Articles

Back to top button