देशबिहारसारन

राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर सारण जिला समाहरणालय में किया गया संगोष्ठी का आयोजन

सारण। राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर सारण जिला समाहरणालय स्थित जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी कार्यालय मे एक संगोष्ठी का आयोजन सारण जिले के विभिन्न मीडिया संस्थानों में कार्यरत पत्रकारों व पदाधिकारीयों की मौजूदगी मे किया गया। पिछले कई महिनों से कहर बरपा रहे वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण के दौरान पत्रकारों ने जिस तरह से अपने कार्यों को अंजाम दिया है वह किसी युद्ध से कम नही था। जिस तरह से पुरे विश्व मे कोरोना ने अपना वर्चस्व दिखाया उसके ठीक विपरीत भारत मे जागरूकता फैलने से कोरोना की रफ्तार को रोक दिया गया, इसका श्रेय भी पत्रकारों को ही जाता है। सरकार व जनता के बीच समन्वय स्थापित कराना मीडिया का ही काम है।

Seminar organized in Saran District Collectorate on National Press Day in bihar

इस दौरान की कई पत्रकारों ने अपनी जान जोखिम मे भी डाली और अपने कार्य को अंजाम तक पहुंचाया। घर परिवार से दूर रहकर या परिवार व समाज के बीच रहकर भी पत्रकार का जीवन एकांत ही होता है। विपरीत परिस्थितियों में भी खबर तैयार करना, पल पल शहर से गांव तक के हालात से रूबरू होना, विसंगतियों को दरकिनार कर सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना बहुत ही कठिन कार्य होता है यही नही कई बार तो पत्रकारों को दोषारोपण का शिकार होना पड़ता है। बावजूद दृढ़ निश्चय के साथ टिके रहना किसी वीर योद्धा से कम नही। यू ही नही लोकतंत्र का चौथा स्तंभ पत्रकारिता को कहा गया है।

Seminar organized in Saran District Collectorate on National Press Day in bihar

इस अवसर पर पत्रकारों ने अपने अपने विचार रखे. उन्होने कहा कि कोरोना संक्रमण हो या कोई भी विकट परिस्थिति में भी सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने वाले पत्रकारो का आज सरकार अनदेखी कर रही है। इस पर सरकार व प्रशासन को ध्यान देना चाहिए पत्रकार समाज का प्रहरी होता है और इनका सम्मान व सुरक्षा की बात भी होनी चाहिए।

Show More

Related Articles

Back to top button