उत्तर प्रदेशवाराणसी

पांचवे दिन भी जारी है शिक्षकों का सत्याग्रह, गांधीवादी तरीके से कर रहे विरोध

वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में संविदा शिक्षकों का सत्याग्रह आज पांचवे दिन भी जारी रहा। सत्याग्रह के पांचवे दिन संविदा शिक्षकों ने गांधीवादी तरीके से रघुपति राघव राजा राम के गीत गाकर विश्वविद्यालय प्रशासन के सद्बुद्धि की कामना की। बताते चले कि जन शिक्षकों ने 30 जून के बाद से अब तक लगातार मौखिक आदेशों के जरिए विश्वविद्यालय ने उनकी सेवा ली है और अब पांच महीने बीत जाने के बाद उनका भुगतान नही कर रही है।

 Satyagraha of teachers continues even on fifth day, protesting in Gandhian way in varanasi

विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा जारी एक पत्र में स्पष्ट कर दिया है कि इन संविदा शिक्षकों की संविदा 30 जून को समाप्त कर दी गई । जबकि राज्य सरकार के द्वारा जारी 13 मार्च 2020 के आदेशानुसार इनकी संविदा अवधि स्वत: विस्तारित होकर पाठ्यक्रम चलते रहने तक अथवा इनकी आयु 62 वर्ष होने तक मान्य है। उत्तर प्रदेश के अन्य राज्य विश्वविद्यालयों यथा पूर्वांचल विश्वविद्यालय आदि ने भी राज्य सरकार के उक्त आदेश को मान्य किया है।

 Satyagraha of teachers continues even on fifth day, protesting in Gandhian way in varanasi

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ ने भी इसे अपनी कार्यसमिति में इस आदेश को स्वीकार कर अपने परिनियमावली में शामिल कर लिया और उसी आदेशानुसार वेतन भी निर्गत किया। कोरोना संकट का हवाला देकर विश्वविद्यालय प्रशासन हमेशा इन शिक्षकों की मांग को टालमटोल करते रहे अब 28 अक्टूबर के बाद ऐसा क्या हुआ कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने इनके वेतन भुगतान से मुकरने लगे और इस प्रक्रिया के रुख को परिवर्तित करने में लग गए तथा नई नियुक्ति हेतु विज्ञापन और साक्षात्कार आदि की बात करने लगे।

Show More

Related Articles

Back to top button