अमेठीउत्तर प्रदेश

बायोमैट्रिक मशीन खराब होने के चलते लोग कोटे से लौट रहे बैरंग

अमेठी। लाकडाउन के बाद अभी जिंदगी सही से पटरी पर नही लौटी है। गरीब वर्ग में रोजी-रोटी के लाले हैं। इस स्थित में यहां अमेठी तहसील के टाउन में तीन महीने से लोगों को सरकारी राशन के लिए कोटे की दुकान के चक्कर लगाने पड़ रहे है। पिछले तीन महीनों से दूसरे के कोटेदार की बायोमैट्रिक मशीन लाकर 1 घण्टे दो घण्टे राशन वितरण करके वितरण करना बंद कर देते है। जिसकी वजह से सभी कार्ड धारकों को राशन नही मिल पाता है। दरसल, बायोमैट्रिक मशीन खराब होने के चलते लोग कोटे से बैरंग लौट रहे। ऐसे में जितने का उन्हें राशन मिलना था उससे अधिक वो किराए में खर्च कर चुके हैं।

पूरा मामला अमेठी के तहसील टाउन एरिया के वार्ड नंबर 3 कटरा राजा हिम्मत सिंह से जुड़ा है। गांव निवासी विकास यादव बताते हैं कि तीन महीने से यहां राशन बांटने की मशीन खराब है बनने को दिए हैं। हम लोग यहां आते कहते हैं अभी आएगी, सुबह आएगी शाम आएगी। पांच दिन से यही समस्या है। गांव निवासी निसा बताती हैं कि तीन महीने से हम लोग दौड़ रहे हैं राशन नही मिल रहा। जितना राशन नहीं मिलता उससे अधिक हम लोगों का किराया जा रहा है। कोटेदार कहते हैं मशीन खराब है दस मिनट रुको, पांच मिनट रुको कल आना यही सब बता रहे हैं। अंसारी बताती हैं तीन महीने से दौड़ रहे हैं राशन ही नही मिलता। इतनी दूर से किराया भाड़ा लगाकर आते है और राशन मिलता ही नही।


वहीं कोटेदार दिनेश कुमार बताते हैं कि विगत तीन महीनों से हमारी मशीन डेड हो गई है। उसकी शिकायत मैंने टोल फ्री नंबर पर, अधिकारियों से भी की। समस्या को दूर करने के लिए अधिकारी कभी इनकी मशीन मांगकर के कभी उनकी मशीन मांगकर के राशन बंटवा देते हैं फिर मशीन वापस चली जाती है। अधिकारी ने कहा था कल मशीन मिल जाएगी, अब आपरेटर कह रहा खर्चा दो तो मशीन मिल जाएगी। इस मामले में जिम्मेदार अधिकारी का कहना है इसकी सूचना मिली है। दो महीनों में दूसरे कोटेदार से मशीन लेकर वितरण कराया गया है। नई मशीन कल तक लग जाएगी।

 

Show More

Related Articles

Back to top button