अंतरराष्ट्रीय

राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे नेपाल के पीएम ओली, कुर्सी खतरे में देख लिया ये फैसला

nepal pm oli

काठमांडू। भारत चीन विवाद के बीच नेपाल में इस समय राजनीतिक संकट खड़े हो गए हैं। इसके साथ ही इसका असर चीन तक देखा जा सकता है। ऐसे में नेपाल के पीएम केपी ओली राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे थे। चौतरफा घिरे केपी ओली आज देश को संबोधित कर सकते हैं। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री पुष्प कमल दाहाल प्रचंड ने कुछ दिन पूर्व कहा था कि नेपाल को पाकिस्तान नहीं बनने देंगे। आज 12 बजे केपी ओली की बैठक होने वाली थी। नेपाल में आरोप लगता रहा है कि ओली अपनी कुर्सी बचाने के लिए चीन का साथ ले रहे हैं। नेपाल के प्रधानमंत्री भारत के खिलाफ सख्त रुख अपनाते रहे हैं।

बता दें​ कि नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी के नेता लगातार प्रधानमंत्री ओली के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। भारत के खिलाफ लगातार पीएम ओले के रुख को देखते हुए पार्टी की स्थायी समिति की बैठक में पुष्प कमल दाहाल प्रचंड, माधव नेपाल, झलनाथ खनाल और बामदेव गौतम समेत वरिष्ठ नेताओं ने ओली से इस्तीफा देने को कहा था।

बताया जा रहा है कि उनकी कुर्सी खतरे में पड़ गई है। चीन प्रेम ने केपी शर्मा ओली को खतरे में डाल दिया है। भारत के खिलाफ उनके रूख को उनके पतन का कारण माना जा रहा है। इस दौरान माना जा रहा है कि भारत से रोटी बेटी के रिश्ते पर दरार डालने के कारण उनकी ये स्थिति हुई है।

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने संसद का बजट सत्र समाप्त करने की सिफारिश करने का फैसला किया है। यानी पीएम अभी इस्तीफा नहीं देंगे। संसद सत्र स्थगित कर के वो दल विभाजन का नया कानून ला सकते हैं। अध्यादेश लाकर पार्टी विभाजन की संभावना बढ़ गई है।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close