उत्तर प्रदेशवाराणसी

नाग नागिन कर रहे क्रीड़ा, एक्सपर्ट कर रहे ये बात

 

वाराणसी। जनपद के चौबेपुर में एक नाग नागिन के जोड़े को क्रीड़ा करना चर्चा का विषय बना हुआ है। दोपहर के समय वहां पर काम करने वाले मजदूरों में इस दृश्य को देखा और परिवार वालों को बताया जिसे वहां देखने के लिए लोगो की भीड़ इक्कठा हो गई। भीड़ ने ही नाग नागिन के इस दृश्य का वीडियो बनाया। इसके बाद वन विभाग को सूचना दिया गया लेकिन वन विभाग के आने से पहले वह दोनों जोड़ा काफी प्रयास के बाद भी नहीं मिले। नवंबर के मौसम में इस तरह का दृश्य देखना जंतु वैज्ञानिकों के लिए भी आश्चर्य की बात है इससे अनुमान लगाया जा रहा है कि मौसम में परिवर्तन के कारण ऐसा हुआ है।

BHU के प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया जब हम लोगों ने देखा तो यह हम लोगों के लिए आश्चर्य की बात थी, यह जो समय है यह उनके लिए यूजुअल नहीं है। हमें जंतु वैज्ञानिकों के जो एक्सपोर्ट है उनसे बात किया उनको यह वीडियो भेजा गया। इस मौसम में साँप सुसुथा अवस्था मे चले जाते है। एक्सपर्ट को भी यह जानकर बहुत ही आश्चर्य हुआ क्योंकि सांपों के क्रीड़ा करने का समय मार्च का होता है। लगातार क्लाइमेट चेंज हो रहा है जिसको इन सांपों को समझ नहीं आया इसलिए उन्हें ऐसा करते देखा गया।

ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि हमारे यहां अक्सर माता-पिता और दादा-दादी से सुना था कि यहां पर सांप देखे जाते हैं। क्योंकि घर के प्रांगण में ही 1100 वर्ष पुरानी शिव की मंदिर है। लेकिन ऐसा हम लोगों ने पहली बार देखा और वह भी इस समय में यह हमारे लिए उत्सुकता का विषय है।

प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे की मदद से हम लोगों ने इस पूरे प्रकरण को जानने के लिए फोन पर देहरादून स्थित भारतीय वन्यजीव संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ संदीप कुमार गुप्ता ने बताया शीत ऋतु के आगमन पर सुसुप्तावस्था में रहने वाले.त्र साँप अक्सर बसंत मार्च में ही वह इस अपनी अवस्था में दिखते हैं। ठंड के शुरुआत में इस अवस्था देखना बेहद ही दुर्लभ दृश्य है इस समय साँप पर गर्माहट के लिए जमीन पर अंदर चले जाते हैं। मार्च में प्रजनन और अगस्त में अंडे देते हैं।

Show More

Related Articles

Back to top button