उत्तर प्रदेशलखनऊ

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में अनुमान से अधिक की धनराशि एकत्र, अब विदेश से भी लेंगे दान

लखनऊ। रामनगरी अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान शनिवार को समाप्त हो गया। सभी ने राम मंदिर के लिए दान दिया है। श्रीराम मंदिर की अनुमानित लागत 1500 करोड़ रुपया आंकी जा रही है जबकि श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण के 44 दिन के अभियान में 2100 करोड़ से अधिक की धनराशि एकत्र हो चुकी है। इस अभियान में भी लागत से करीब 600 करोड़ रुपया अधिक प्राप्त हो गया है। अभी चेक से मिली दान की राशि की गिनती होनी है। तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट अब अगले अभियान के तहत विदेश से भी दान की राशि लेने की तैयारी में है।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद राम गिरी ने बताया कि धन एकत्र करने का अभियान सम्पूर्ण भारत में 15 जनवरी से 27 फरवरी तक चलाया गया था। कोषाध्यक्ष गोविन्द देव गिरी कहते हैं अभी के लिहाज से मंदिर की अनुमानित लागत 1500 करोड़ रुपए तक हो सकती है। ऐसे में जरूरत से ज्यादा दान ट्रस्ट को मिल गया है। मंदिर की नींव की योजना में बदलाव होने के कारण लागत में फर्क आएगा। लागत बढऩे पर चंदा अभियान फिर चलाया जा सकता है।

More money than collected in Sriram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust collected, now donations will also be taken from abroad
Treasurer Govind Ram Giri

स्वामी गोविंद देव गिरि ने कहा कि विदेशों में रहने वाले लोग भी मांग कर रहे हैं दूसरे देशों में भी इसी तरह का अभियान चलाया जाए। ऐसे में उन लोगों से किस तरह चंदा लिया जाए, इसका फैसला मंदिर ट्रस्ट पदाधिकारियों की बैठक में होगा। उधर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय का कहना है कि अभी कोई सीमा नहीं है कि इसकी लागत कितनी होगी। मंदिर बनने के बाद इसका विस्तार भी होना है। अभी बहुत से दानदाता की धनराशि चेक से मिली है। सही लेखा-जोखा तैयार किया जा रहा है जिसमें थोड़ा समय लगेगा।

More money than collected in Sriram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust collected, now donations will also be taken from abroad
More money than collected in Sriram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust collected, now donations will also be taken from abroad

ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्र ने बताया कि डेढ़ लाख टोलियां इस अभियान में लगी थीं। जिसमें से 46 हजार निधि डिपोजिटर बने हैं। यह लोग अभी धनराशि को बैंकों में जमा कर रहे हैं, जिसमें भी समय लग सकता है। कितनी निधि इस अभियान में जमा हुई है। उसका अधिकृत व सही आंकड़ा ट्रस्ट को अभी नहीं मिला है। सभी बैंक में प्रांत के अनुसार धनराशि जमा की जा रही है। ट्रस्ट जिसका पूरा लेखा जोखा मार्च के अंत तक तैयार कर पाएगा। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों का जुड़ाव राम मंदिर निर्माण अभियान से हुआ है। इसके साथ ही जाति संप्रदाय पंथ व धर्म की बेडिय़ां टूटी हैं। जिसमें बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग भी शामिल हैं।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button