उत्तर प्रदेशवाराणसी

काशी : प्राचीन तीर्थों में एक पुष्कर तालाब के सुन्दरीकरण का काम आखिर कब होगा पूरा?

 Kashi: When will the work of beautification of a Pushkar tank in ancient pilgrimages be finally completed?

वाराणसी। काशी की पहचान कभी जलतीर्थ के रूप में भी होती थी, यहां के मुहल्लों, गलियों और कुंडो-तालाबों से सुशोभीत थी लेकिन आज यह स्थिति है कि गिनती के कुंड तालाब बचे हैं। इनकी भी स्थिति काफी दयनीय बनी हुई है। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा तालाबों के सुन्दरीकरण के लिए पैसा आ रहा है लेकिन सुन्दरीकरण के नाम पर सिर्फ कोरम पूरा किया जा रहा है। कुछ ऐसी ही स्थित अस्सी स्थित पुष्कर तालाब की भी है। पुष्कर तीर्थ के रूप में जाना जाने वाला है। इस तालाब से कभी काशी विश्वनाथ का जलाभिषेक होता था लेकिन आज इसका पानी स्पर्श करने लायक नहीं बचा है।

पुष्कर तालाब के सुन्दरीकरण के लिए केन्द्र सरकार द्वारा 4.50 करोड़ रूपया पास किया गया और तालाब के सुन्दरीकरण का कार्य भी शुरू हुआ लेकिन आज लगभाग 20 वर्ष हो गये तालाब के सुन्दरीकरण का कार्य अभी तक पूरा नहीं हुआ। नगर के तालाबों को बचाने के लिए संघर्षरत जागृति फाउण्डेशन के महासचिव रामयश मिश्र ने धीमी गति से चल रहे पुष्कर तालाब के सुन्दरीकरण के कार्य पर अफसोस जताते हुए कहा कि जिस तरह से तालाब के सुन्दरीकरण का कार्य चल रहा है उससे तो कछुआ भी शर्मा जाये क्योंकि कछुआ धीमा चलता जरूर है लेकिन उसका मंजिल पर पहुंचना निश्चित है लेकिन इस तालाब के सुन्दरीकरण का कार्य कब पूरा होगा इसको लेकर अभी दूर-दूर तक कोई संभावना नहीं है।

 

 Kashi: When will the work of beautification of a Pushkar tank in ancient pilgrimages be finally completed?

रामयश मिश्र ने बताया कि पूर्व सांसद डॉ. राजेश कुमार मिश्र के कार्यकाल में इस तालाब के सुन्दरीकरण के लिए पैसा पास हुआ था। आज 20 वर्ष से उपर हो गया लेकिन अभी भी सुन्दरीकरण का कार्य अधूरा है। आज वाराणसी के सांसद देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी है और उनका भी एक कार्यकाल पूरा हो गया लेकिन इस तालाब की स्थिति नहीं बदली। उन्होंने कहा कि इस तरह से अगर विकास का कार्य होगा तो देश कैसे आगे बढ़ेगा। पुष्कर तालाब जलकुंभीयों से पटा है, जिसमें लोग कूड़ा करकट कभी डाल रहे है। साथ ही तालाब पर बनी नई सीढ़ियां पानी गिरने से खराब हो रही है। तालाब की सीढ़ियो पर काई जम गया है। तालाब की सुध लेने वाला कोई नहीं है।

Show More

Related Articles

Back to top button