उत्तर प्रदेशप्रतापगढ़

उत्पीड़न के चलते आईटीआई छात्र ने मौत को लगाया गले


प्रतापगढ़। प्रताड़ना के चलते आईटीआई के छात्र ने फांसी के फंदे पर झूलकर आत्महत्या कर ली। छात्र के मानसिक उत्पीडन के चलते हुई मौत की जानकारी मिलते ही पुलिस प्रशासन मे हडकंप मच गया। आनन फानन मे सीओ तथा कोतवाल भारी फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और घटना के कारणों की छानबीन को लेकर घंटो मशक्कत करते दिखे। कोतवाली लालगंज के बेलहा गांव मे शनिवार को जोखू लाल शर्मा उर्फ शंकर के बीस वर्षीय पुत्र धीरेन्द्र उर्फ धीरू ने मकान की दूसरी मंजिल पर बने कमरे मे फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना को लेकर मृतक के भाई धर्मेन्द्र शर्मा की तहरीर पर तीन आरोपियो के खिलाफ उत्पीड़न के चलते आत्महत्या का पुलिस ने केस दर्ज किया है।

बता दे कि धीरेन्द्र इस समय प्रतापगढ़ मुख्यालय पर आईटीआई दूसरे वर्ष की पढाई कर रहा था। इस बीच वह घर आया हुआ था। शनिवार को धीरेन्द्र दूसरी मंजिल के एक कमरे मे गया और कमरा बंद कर फंदे से झूल गया। दोपहर उसकी मां गुडडी खेत से लौटी तो धीरू को खाना देने छत पर गई। मां के आवाज देने पर भी कमरे के अंदर से कोई आवाज नही आयी। इसके बाद मां ने दरवाजे को खटखटाया तो भी अंदर से कोई आवाज न मिलने पर वह अनहोनी की आशंका मे कांप उठी। मृतक की मां ने कमरे मे लगे रोशनदान से झांका तो अंदर का नजारा देख उसकी चीख निकल गई। गुडडी का चीत्कार सुन परिजन भी छत पर पहुंच गये। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। आत्महत्या से पूर्व मृतक छात्र के पास से एक सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला। सुसाइड नोट मे मृतक छात्र ने आत्महत्या के लिए गांव के ही प्रदीप सिंह पुत्र हीरा सिंह तथा उसके साले व भीषम सिंह को लगातार प्रताड़ना के चलते जबाब देह बताया है। सुसाइड नोट मे मृतक छात्र ने पिता के नाम भावनात्मक पत्र में कहा है कि वह कायर नही है किंतु आरोपितो के उत्पीड़न के चलते वह आत्महत्या कर रहा है,…. सॉरी पापा।

Show More

Related Articles

Back to top button