उत्तर प्रदेशमऊ

कोरोना काल के बाद पहली मूर्ति का किया गया विसर्जन

मऊ। कोरोना महामारी ने लोगों के जीवन को अस्त व्यस्त कर दिया था। कोरोना काल के अभी तक के लगभग आठ महीने के दौरान सरकार ने सार्वजनिक कार्यक्रमों को प्रतिबंधित कर रखा था। आलम ये था कि इस वर्ष दुर्गा पूजा में जगह जगह रखे जाने वाले मां दुर्गा की प्रतिमा हो या दशहरे पर लगने वाले मेले को कोरोना की वजह से अनुमति नहीं दी गई लेकिन दीपावली के पर्व पर मां लक्ष्मी की मूर्ति को स्थापित करने की अनुमति पहली बार प्रदेश सरकार ने दे दी। लिहाजा कोरोना काल के बाद पहली बार सरकारी गाइडलाइन के तहत मां लक्ष्मी की मूर्ति को जगह-जगह स्थापित किया गया।

Immersion of first idol after Corona period in mau

वहीं दीपावली के बाद आज देर शाम प्रशासन की देख रेख में नगर क्षेत्र में रखी गई मां लक्ष्मी की मूर्तियो को तमसा नदी में विसर्जित कर दिया गया। आस्था के पर्व दीपावली पर रखे जाने वाले मां लक्ष्मी की प्रतिमा के स्थापना और विसर्जन की अनुमति मिलने से श्रद्धालुओं में खासा उत्साह देखने को मिल रहा था।

Immersion of first idol after Corona period in mau

इस वर्ष दशहरा, रामलीला और माँ दुर्गा की प्रतिमाएं नहीं लगने से लोगों में काफी निराशा थी लेकिन जैसे ही प्रदेश सरकार दीपावली के त्यौहार पर मा लक्ष्मी की प्रतिमाओं को स्थापित करने की अनुमति दी, भक्त खुशी से झूम उठे। लिहाजा आज माँ लक्ष्मी की मूर्ति विसर्जन के दौरान लोग भक्ति भावना के साथ उत्साहित दिखे।

Show More

Related Articles

Back to top button