उत्तर प्रदेशवाराणसी

महामारी के नाम पर जन भावना एवं जन आस्था को रौंदा जा रहा है : अजय राय

वाराणसी। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एवं पूर्व विधायक अजय राय ने कहा कि भाजपा धर्म एवं संस्कृति की बात केवल राजनीति लाभ के लिए करती है। भाजपा शासन राजनीति प्रक्रिया में अनियंत्रित भीड़ वाली बड़ी-बड़ी सभाओं की अनुमति तो देता है। पर गहरी धार्मिक जंग आस्था की पुरातन सामाजिक परंपराओं को रोका जा रहा है। रामनगर की ऐतिहासिक रामलीला के बाद 500 वर्षों से भी ज्यादा पुरानी नाटी इमली का भरत मिलाप के ऐतिहासिक संस्कृतिक आयोजन को भी अनुमति नहीं देने के सरकार के जन विरोधी फैसले का हम कड़ा आलोचनात्मक प्रतिवाद करते हैं। संविधान एवं लोकतंत्र से मिले स्वतंत्रता अधिकार केवल राजनीति के दास नहीं उन पर समाज का भी हक है।

पूर्व विधायक अजय राय ने बताया कि चुनाव में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ प्रचार और वर्चुअल प्रचार माध्यमों से अपनी बातें जनता तक पहुंचाने के वैकल्पिक माध्यम संभव है। लेकिन फिर भी न केवल प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री आदि बड़ी जनसभाएं कर रहे हैं। चुनाव प्रक्रिया में उनकी बेलगाम बाढ़ आई है। दूसरी और जनता की आस्था एवं संस्कृति विरासत से जुड़ी इतिहासिक समान परंपराओं को महामारी के नाम पर ध्वस्त कर जन भावना एवं जन आस्था को रौंदा जा रहा है क्या राजनीतिक बिगड़ महामारी प्रूफ और संस्कृति समागमो की भीड़ महामारी फ्रेंडली होती हो। सरकार की ऐसी दोहरी सोच की रीति नीति को प्रणाम है। भाजपा शासन जन आस्था को तुच्छ मानता है।
नमस्ते ट्रंप और मध्य प्रदेश में सत्ता पलट राजनीतिक ऑपरेशन के लिए भाजपा सरकार कोरोना वायरस बचाओ में लगदा उन जैसी रणनीति में राजनीतिक लाभ के लिए विलम्ब तो कर रही है लेकिन छन आस्था की समाजिक परंपराएं रौंदी जा रही है।

अजय राय ने बुनकरों के हित में भी सरकार पर निशाना साधा। बनारस की परंपरागत पहचान एवं शान रहे बुनकरी के अनोखे कला क्षेत्र के दमन कारी सरकार पर आरोप मढ़ते हुए सरकार से मांग की बुनकरों को जो संरक्षण सरकार से मिलते रहे हैं। उन्हें जारी रखा जाए और बुनकर समाज की मांगे मानी जाए सरकार एक ओर लोकल बने वोकल के साथ स्वदेशी स्वावलंबी एवं आत्मनिर्भर उत्पादन के नारे देती है और दूसरी ओर बुनकरों के दमन की वृत्ति नीति के साथ लाखों लोगों का पीढ़ियों से भरण पोषण देने वाले काशी की पहचान बनाती वस्त्र उद्योग की शिल्पी बुनकर समाज को सभा करने पर आमादा है।

Show More

Related Articles

Back to top button