अलीगढ़उत्तर प्रदेश

पांच जन जागरूकता रथों को मंडलायुक्त ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

अलीगढ़। कमिश्ररी परिसर में पांच जन जागरूकता रथों को मंडलायुक्त जीएस प्रियदर्शी और आटीओ फरीदुउद्दीन ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। ये रथ लोगों को सड़क सुरक्षा, कोविड-19 और मिशन शक्ति अभियान के प्रति जागरूक करेंगे। मंडलायुक्त ने कहा कि जागरूकता सप्ताह के तहत हम जितने लोगों को यातायात नियमों की महत्ता के बारे में समझा देंगे उतनी ही सफलता मिलेगी और सही मायनों में तभी अभियान सफल समझा जाएगा। ये रथ, शहर से लेकर अलग-अलग निकाय क्षेत्रों में भी भ्रमण करें। मंडलायुक्त ने कहा कि अभी कोरोना समाप्त नहीं हुआ है। जब तक कोरोना की दवाई या वैक्सीन ईजाद नहीं हो जाती, हम सभी को दो गज दूरी-मास्क जरूरी का पालन करना होगा। मंडलायुक्त ने वाहनों पर लगे स्लोगन पर सभी का ध्यान आकर्षित कर रहा ये केवल एक पंक्ति नहीं बल्कि जिम्मेदारी है।

 Five public awareness chariots flagged off by Mandalayukta in aligadh

सड़क परिवहन अधिकारी फरीदुद्दीन ने कहा कि यातायात के नियम सड़क पर चल रहे व्यक्तियों के जीवन की सुरक्षा के लिए बनाए गए हैं। अपने जीवन से खिलवाड़ न करते हुए यातायात के नियमों का पालन करें और जीवन को सुरक्षित बनाएं। ड्राइविंग के समय मोबाइल के प्रयोग से दुर्घटना की संभावना चार गुना तक बढ़ जाती है। आरटीओ केडी सिंह ने कहा कि पैदल सड़क पार करते समय जेब्रा क्रासिंग का ही प्रयोग करें। राजमार्गों पर सर्वाधिक दुर्घटनाएं तेज गति की वजह से होती हैं, इसलिए आवश्यक है कि धीरे चलें और सुरक्षित घर पहुंचें। एआरटीओ अमिताभ चतुर्वेदी ने कहा कि प्राय: देखने में आता है कि वाहन चालक किसी न किसी प्रकार का नशा कर वाहन चलाते हैं, जबकि नशे में वाहन चलाना जानलेवा और घातक होता है। पकड़े जाने पर आपका ड्राइविंग लाइसेंस भी जब्त हो सकता है। इस दौरान एसपी यातायात सतीश चंद्र, सीओ देवी गुलाम सिंह, यातायात निरीक्षक केपी गौड़ समेत अन्य अधिकारी व यातायात पुलिसकर्मी भी उपस्थित रहे। वाहन पर लगे स्लोगन- नशे में वाहन चलाना-असमय मौत को दावत देना, लेन ड्राइविंग-सुरक्षित ड्राइविंग, तेज गति-जीवन की दुर्गति, जेब्रा क्रासिंग-सुरक्षित क्रासिंग, वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग-बनेगा दुर्घटना का संयोग, यातायात सप्ताह 24 नवंबर तक।

 Five public awareness chariots flagged off by Mandalayukta in aligadh

आरटीओ फरीदुद्दीन ने बताया कि शासन के निर्देश पर आगामी 24 नवंबर तक सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा। जिसका उद्देश्य लोगों को यातायात के नियमों एवं कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए जागरूक करना है। सड़क दुर्घटनाओं में मृतकों की संख्या में कमी लाने के लिए सरकार द्वारा 24 नवंबर से एक सप्ताह तक सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जा रहा है। बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं के प्रति मुख्यमंत्री द्वारा गहरी चिंता व्यक्त की गई है, जिसके तहत प्रत्येक तीन माह बाद यानी वर्ष में चार बार सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा।

 

Show More

Related Articles

Back to top button