उत्तर प्रदेशबाराबंकी

कच्ची शराब बनाना छोड़ महिलाओं के हाथों से बनाये गए 51 हज़ार दीयों से मनाया गया दीपोत्सव

बाराबंकी। डीएम डॉ. आदर्श सिंह व एसपी डॉ अरविन्द चतुर्वेदी की मुहिम से कच्ची शराब बनाने का काला कारोबार छोड़ने का संकल्प लेने वाली चैनपुरवा गाँव की महिलाओं द्वारा बनाये गए मोम के 51 हज़ार दीयों से दीपोत्सव मनाया गया।

Dipotsav celebrated with 51 thousand diyas made by the hands of women, quit making raw liquor in barabanki

जिले में अवैध कच्ची शराब के अवैध धंधे के लिए मशहूर सूरतगंज का चैनपुरवा गांव की महिलाओं के स्वावलंबी होने के संकल्प से कुछ अलग ही बन गया है। कच्ची शराब बनाने के और बेचने के कारोबार को ना करने के संकल्प के बाद बाराबंकी डीएम डॉ. आदर्श सिंह व एसपी डॉ अरविन्द चतुर्वेदी की मिशन कायाकल्प मुहिम से जुड़कर नई राह चुनने वाली महिलाओं के हाथों से बनाये गए 51 हज़ार दीयों से आज जीआईसी मैदान में दीपोत्सव का आयोजन किया गया।

Dipotsav celebrated with 51 thousand diyas made by the hands of women, quit making raw liquor in barabanki

इस आयोजन में चैनपुरवा गाँव की महिलाओं को ही मुख्य अतिथि बनाया गया था। पुलिस प्रशासन और लखनऊ की उम्मीद संस्था की ओर से आयोजित होने वाले दीपोत्सव की थीम महिला सशक्तिकरण पर आधरित थी। जिलाधिकारी डॉ. आदर्श सिंह व पुलिस अधीक्षक डॉ. अरविंद चतुर्वेदी के सराहनीय प्रयासों से इस कार्यक्रम का सफल आयोजन किया गया। बाराबंकी के जिलाधिकारी डॉ. आदर्श सिंह ने भी कच्ची शराब के कारोबार को छोड़कर शहद और मोम के दीए बनाने वाली महिलाओं को उत्साहवर्धन किया। इस दीपावली अयोध्या में भी होने वाले दीपोत्सव में चैनपुरवा के 20 हज़ार दिए रोशनी बिखेरेंगे।

Show More

Related Articles

Back to top button