उत्तर प्रदेशमऊ

ढलते सूर्य को अर्घ्‍य देकर मनाया गया छठ, आंगन और छतों पर गुंजा भक्ति गीत

मऊ। जनपद में आस्था के पर्व छठ की पूजा ढ़लते सूरज को अर्घ्‍य देकर बड़े धूम धाम से मनाया गया। कोरोना महामारी की वजह से ज्यादातर महिलाओं ने छठ की पूजा अपने घरों में ही की। कोरोना महामारी की वजह से नदियों एवं तालाबों पर महिलाओं की भीड़ कम ही देखने को मिली। वही ब्रती महिलाओं ने अस्‍ताचलगामी सूर्य को अर्घ्‍य देकर अपने पुत्र की लंबी उम्र की कामना की। पूजा में अनेक प्रकार के फल के साथ पूड़ी, ठेकुआ प्रमुख व्यंजन है जिसे छठ माता को चढ़ाया जाता है।

 Chhath celebrated by offering to the waning Sun, Gunja devotional songs on the courtyards and roofs in mau

बताते चले कि लोक आस्था के महापर्व छठ का हिंदू धर्म में अलग महत्व है। यह एकमात्र ऐसा पर्व है जिसमें ना केवल उदयाचल सूर्य की पूजा की जाती है बल्कि अस्ताचलगामी सूर्य को भी पूजा जाता है। महापर्व के दौरान हिंदू धर्मावलंबी भगवान सूर्य देव को जल अर्पित कर आराधना करते हैं।

 Chhath celebrated by offering to the waning Sun, Gunja devotional songs on the courtyards and roofs in mau

मान्यता है कि छठ देवी सूर्य देव की बहन हैं और उन्हीं को प्रसन्न करने के लिए भगवान सूर्य की अराधना की जाती है । वहीं इस बार कोरोना महामारी की वजह से महिलाओं ने अपने आंगन या छतों पर छठ का पर्व मनाया गया। वहीं घर के आंगन में छठ मां की भक्ति गीत गाए गए।

Show More

Related Articles

Back to top button