उत्तर प्रदेशबाराबंकी

अपहरण व थाने में रुपये लेने का मामला : तीन सिपाहियों पर मुकदमा, एसओ की होगी विभागीय जांच

  • एसपी डॉ. अरविन्द चतुर्वेदी ने दिया जीरो टॉलरेंस का परिचय
  • कोठी थाना अध्यक्ष शैलेश यादव के खिलाफ एसपी ने विभागीय जांच के दिए आदेश
  • सिपाहियों ने निजी कार से अपहरण कर कमरे में बंधक बनाकर वसूले थे तीन लाख रुपये
  • सिपाहियों को दोषी बनाने के बाद उनपर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत किया गया मुकदमा दर्ज
  • एक सिपाही अमित सिंह निकला निर्दोष
  • एसपी डॉ. अरविंद चतुर्वेदी की सख्त कार्रवाई से पुलिस विभाग में मचा हड़कंप

Case of kidnapping and taking money in police station: Three soldiers will be prosecuted and SO will be departmental inquiry in barabanki

बाराबंकी। फिरौती के लिए युवक को अपहरण करने के सनसनीखेज प्रकरण में एक बार फिर एसपी ने जीरो टॉलरेंस का परिचय देते हुए जांच में आरोपित सिपाहियों पर मुकदमा कराया है। वहीं, कोठी थानाध्यक्ष की विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं। वहीं, सीओ रामसनेहीघाट की जांच में एक सिपाही की संलिप्ता इस वारदात में नहीं पाई गई है। मसौली के भूलीगंज निवासी राहुल सिंह को 16 अक्टूबर की रात कुछ सिपाहियों ने अपनी निजी कार से अपहरण कर लिया था। पहले कोठी के उस्मानपुर गांव में किराए के कमरे में उसे बंधक बनाकर रखा गया। उसकी जेब से आठ हजार निकालकर शराब पी गई और दस लाख न देने पर दो किलो मार्फीन में जेल भेजने की धमकी दी गई। हालांकि, थाने में तीन लाख रुपये देकर सिपाहियों ने राहुल को छोड़ दिया।

प्रारंभिक जांच के आधार पर एसपी ने चार सिपाही आशीष तिवारी, अमित सिंह, नीलेश सिंह और जमाल अहमद को निलंबित करते हुए जांच सीओ रामसनेहघाट पंकज सिंह को सौंपी थी। छह नवंबर को सीओ ने गहन जांच के बाद रिपोर्ट एसपी को सौंपी। एसपी डॉ. अरविंद चतुर्वेदी ने बताया कि सीओ पंकज सिंह की ओर से दोषी पाए गए तीन सिपाहियों पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम आदि के तहत मुकदमा कराया गया है। अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

Show More

Related Articles

Back to top button