दिल्लीदेश

जन्मदिन विशेष : भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का सफरनामा

दिल्ली। एल. के. आडवाणी (L K Advani) का जन्म कराची के सिंधी परिवार में 8 नवम्बर 1927 में हुआ था। उनके पिताजी एक व्यापारी थे। उनके पिता का नाम श्री किशनचंद आडवाणी तथा माता का नाम श्रीमती ज्ञानी देवी था। यह परिवार भारत के कराची प्रांत (जो कि अब पाकिस्तान में है), में हुआ. कराची में रहने के बाद भारत-पाकिस्तान बँटवारे में यह परिवार पाकिस्तान से मुंबई (भारत) आकर बस गया।

Birthday Special: Senior BJP leader LK Advani's journey

लालकृष्ण आडवाणी ने अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा सेंट पैट्रिक हाई स्कूल, कराची से पूरी की, और फिर गवर्नमेंट कॉलेज हैदराबाद, सिंध में दाखिला लिया था। उनका परिवार विभाजन के दौरान भारत में आय था और बंबई में बस गया था। आडवाणी ने बॉम्बे विश्वविद्यालय के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज से कानून में स्नातक किया था। आडवाणी ने फरवरी 1965 में कमला आडवाणी (1932–2016) से शादी की थी. उनका एक बेटा, जयंत और एक बेटी, प्रतिभा है जो टीवी सीरियल बनाती हैं। आडवाणी जी कि पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया गया है।

वर्ष 1951 में डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने जनसंघ की स्थापना की। तब से लेकर सन 1957 तक आडवाणी पार्टी के सचिव रहे। वर्ष 1973 से 1977 तक आडवाणी ने भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष का दायित्व संभाला। वर्ष 1980 में भारतीय जनता पार्टी की स्थापना के बाद से 1986 तक लालकृष्ण आडवाणी पार्टी के महासचिव रहे। इसके बाद 1986 से 1991 तक पार्टी के अध्यक्ष पद का उत्तरदायित्व भी उन्होंने संभाला। इसी दौरान वर्ष 1990 में राम मंदिर आंदोलन के दौरान उन्होंने सोमनाथ से अयोध्या के लिए रथयात्रा निकाली। हालांकि आडवाणी को बीच में ही गिरफ़्तार कर लिया गया पर इस यात्रा के बाद आडवाणी का राजनीतिक कद और बड़ा हो गया।[1] 1990 की रथयात्रा ने लालकृष्ण आडवाणी की लोकप्रियता को चरम पर पहुँचा दिया था।

Birthday Special: Senior BJP leader LK Advani's journey

वर्ष 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद जिन लोगों को अभियुक्त बनाया गया है उनमें आडवाणी का नाम भी शामिल है। लालकृष्ण आडवाणी तीन बार भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद पर रह चुके हैं। आडवाणी चार बार राज्यसभा के और पांच बार लोकसभा के सदस्य रहे। वर्ष 1977 से 1979 तक पहली बार केंद्रीय सरकार में कैबिनेट मंत्री की हैसियत से लालकृष्ण आडवाणी ने दायित्व संभाला। आडवाणी इस दौरान सूचना प्रसारण मंत्री रहे। आडवाणी ने अभी तक के राजनीतिक जीवन में सत्ता का जो सर्वोच्च पद संभाला है वह है एनडीए शासनकाल के दौरान उपप्रधानमंत्री का। लालकृष्ण आडवाणी वर्ष 1999 में एनडीए की सरकार बनने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी के नेत़ृत्व में केंद्रीय गृहमंत्री बने और फिर इसी सरकार में उन्हें 29 जून 2002 को उपप्रधानमंत्री पद का दायित्व भी सौंपा गया।

Show More

Related Articles

Back to top button