उत्तर प्रदेशमऊ

कोर्ट में अधिवक्ता और वादकारी में हुई मारपीट, न्यायपरिसर को किया तार तार

ads

मऊ। उत्तर प्रदेश के घोसी तहसील परिसर में वकीलों एवं वादकारियों में जम कर हंगामा हुआ । हंगामा इस कदर बढ़ा कि लग ही नहीं रहा था कि यहां लोगों को न्याय मिलता है। न तो अधिकारियों को अपनी गरिमा का ख्याल न तो अधिवक्ताओं को अपनी मर्यादा का ध्यान। दोनों के द्वंद की भेंट चढ़ गए और मौके पर आए फरियादी एवं वादकारी में जमकर मार पीट हुई। वहीं कोतवाली के वरिष्ठ उप निरीक्षक प्रदीप मिश्रा दल बल के साथ तहसील पहुंचे तो पूरा तहसील परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया।

जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले एसडीएम आशुतोष राय द्वारा बार के वरिष्ठ अधिवक्ता गोपाल वर्मा से दुर्व्यवहार करते हुए उनका प्रार्थना पत्र फाड़कर फेंक दिया गया था। जिस पर आक्रोशित अधिवक्ताओं ने बार की बैठक कर एसडीएम कोर्ट के बहिष्कार की घोषणा की। लेकिन एसडीएम अपने कोर्ट में बैठकर फरियादियों की फाइलें देख रहे थे। तभी अधिवक्ताओं ने कोर्ट में आकर और अन्य लोगों से एसडीएम कोर्ट में आने के बाबत पूछने लगे तो कुछ अधिवक्ताओं ने वहां मौजूद फरियादियों को धक्का मुक्का देते हुए कोर्ट से बाहर निकालने लगे। एक फरियादी ने जब इस पर आपत्ति जताई तो अधिवक्ताओं ने उसकी पिटाई कर दी और एसडीएम कोर्ट की कुर्सी मेज़ पलट दिया। कोर्ट के अंदर अधिवक्ताओं द्वारा किया गए काम ने न्यायालय की गरिमा को तार तार किया है।

तहसील पर आए हुए फरियादी मनोज यादव ने बताया कि कुछ लोग एसडीएम कोर्ट में अपने मुकदमे के सम्बंध में एसडीएम से वार्ता कर रहे थे। तभी अधिवक्ताओं की झुंड आ गई और एसडीएम से कोर्ट न चलाने की बात कहते हुए हम लोगों के साथ धक्का मुक्की कर मार पीटाई करने लगे। वहीं अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन नाथ त्रिपाठी ने बताया कि घोसी एसडीएम कोर्ट से कुछ मारपीट की अप्लीकेशन आयी है। जांच की जा रही है। जल्द ही इस संबंध में विधिक कार्यवाई की जाएगी।

 

Show More

Related Articles

Back to top button