आजमगढ़उत्तर प्रदेश

अमर सिंह के निधन पर उनके पैतृक गांव तरवा में शोक की लहर

 A wave of mourning in the death of Amar Singh in his native village Tarwa in Azamgarh

आजमगढ़। समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव व वर्तमान में पीएम मोदी के कट्टर समर्थक व राजनीतिक चाणक्य कहे जाने वाले अमर सिंह के निधन की सूचना पर उनके गृह जनपद आजमगढ़ के पैतृक गांव तरवा में शोक की लहर दौड़ गई। तरवां गांव स्थित पुराने घर के पास शोकाकुल परिजन इकट्ठा हुए। इसके अलावा ग्रामीणों ने भी आकर उनको नमन किया।

बता दें कि आजमगढ़ के तरवा स्थित अपने रोड स्थित मकान को अमर सिंह ने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व ही आरएसएस की समाज सेवी संस्था सेवा भारती को दान कर दिया था। यहां से ग्रामीणों के उत्थान को लेकर कई सामाजिक कार्य होते हैं। आजमगढ़ जनपद में जैसे ही सिंगापुर में उनके निधन की सूचना मिली शोक की लहर दौड़ गई। लोग एक दूसरे से जानकारी लेते रहे। गांव में उनके चचेरे भाई के अनुसार अमर सिंह के सगे छोटे भाई अरविंद सिंह के माध्यम से उनको निधन की जानकारी मिली।

 A wave of mourning in the death of Amar Singh in his native village Tarwa in Azamgarh

अमर सिंह आजमगढ़ के विकास के लिए हमेशा से चिंतित रहे थे इसके अलावा पूर्वांचल राज्य की मांग को लेकर उन्होंने वाराणसी से लेकर गोरखपुर तक पदयात्रा भी की थी लेकिन तबीयत खराब होने के चलते कभी कभार ही आ पाते थे। डेढ़ वर्ष पूर्व अपनी संपत्ति को रजिस्ट्री करने के लिए लालगंज तहसील आने के दौरान ही उन्होंने अपनी गंभीर स्थिति का हवाला दिया था और संकेत दिया था कि उनके मकान से ही समाज सेवा से उनका उनके पिता का नाम जिंदा रहेगा।

Tags
Show More

Related Articles

Back to top button
Close